झारखंड पुलिस में हवलदार की पुत्री व गुरुकुल की छात्रा पूनम ने बिहार दारोगा में पाई सफलता

प्रथम प्रयास में मात्र 21 वर्ष में सफलता प्राप्त कर माता पिता शिक्षकों को दिया सम्मान

0 67

संवाददाता
हजारीबाग। गुरुकुल कोचिंग संस्थान की छात्रा हज़ारीबाग़ पुलिस लाइन निवासी हवलदार कमलदेव पासवान एवं गृहणी शांति देवी की एकमात्र पुत्री पूनम ने अपने प्रथम प्रयास में बिहार दारोगा की परीक्षा में शानदार सफलता अर्जित की है। पूनम के शानदार सफलता पर गुरुकुल के निदेशक जेपी जैन, प्रबंध निदेशिका शिप्रा जैन, मार्गदर्शक संजय सिन्हा ने मिठाई खिलाकर उसका स्वागत किया। पूनम ने बिहार दारोगा के अतिरिक्त अपने प्रथम प्रयास में बिहार लोक सेवा आयोग की बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में भी सफलता प्राप्त की है। पूनम ने अपनी सफलता का श्रेय गुरुकुल कोचिंग संस्थान के उत्कृष्ट अध्यापन शैली, कक्षाओं में ही याद कराने की कला, निरंतर टेस्ट सीरीज, प्रतिदिन आयोजित क्विज प्रतियोगिता, शिक्षकों का उत्कृष्ट मार्गदर्शन, परीक्षा पर पूर्ण फोकस एवं पाठ्यक्रम पर गहन विश्लेषण, विगत वर्षों में पूछे गए प्रश्नों का निरंतर अभ्यास तथा पढ़ाई के साथ-साथ व्यक्तित्व विकास की कला को प्रदान किया है। पूनम ने अन्य प्रतियोगी विद्यार्थियों को निरंतर कठिन परिश्रम करने तथा मानसिक एवं शारीरिक दोनों रूप से फिट होने की सलाह दी है। उसने कहा कि निरंतर परिश्रम करने से किसी भी मंजिल को प्राप्त किया जा सकता है। दारोगा बन कर व पुलिस विभाग में पुलिस और जनता के बीच संबंधों को मधुर बनाने का लक्ष्य रखती है। पूनम के पिता कमल देव पासवान झारखंड पुलिस में चौपारण के चोरदाहा चेक पोस्ट थाने में हवलदार के रूप में पदस्थापित हैं। पिता कमलदेव पासवान एवं माता शांति देवी ने पूनम को सदैव जीवन में कुछ कर गुजरने के लिए प्रेरित किया। पूनम की सफलता से पूनम के परिवार के सभी लोग अत्यंत प्रसन्न में है विशेष तौर पर हवलदार कमल देव पासवान ने कहा कि पिता के अधूरे ख्वाब को पुत्री ने पूरा कर दिखाया जिससे वह काफी प्रसन्नता का अनुभव कर रहे हैं। माता शांति देवी ने कहा कि पूनम न केवल पढ़ाई बल्कि गृह कार्यों में भी उनका सदैव सहयोग करती थी। पूनम की शानदार सफलता से उसके तीनों भाई मुकेश, जीतेश, सुधीर काफी प्रेरित है तथा वे भी प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी में स्वयं को संलग्न किए हुए हैं। पूनम की शानदार सफलता पर गुरुकुल के निदेशक जेपी जैन, प्रबंध निदेशिका शिप्रा जैन, मार्गदर्शक संजय सिन्हा, रामस्वरूप गोप, मृत्युंजय सिंह, अनिल कुमार, महेंद्र कुमार, रविन्द्र कुमार, अभिषेक भारद्वाज, प्रवीण कुमार , अनुपमा कुमारी, रूपेश, संतोष, दीपक, बंटी, राहुल ने हर्ष व्यक्त किया और पूनम के उज्जवल भविष्य की मंगल कामना की है। गुरुकुल के निदेशक जेपी जैन एवं प्रबंध निदेशिका शिप्रा जैन ने कहा कि अभी हाल में 64 वीं बीपीएससी की परीक्षा में आभा सिंह ने जिला कल्याण पदाधिकारी के रूप में शानदार सफलता हासिल की है और इसके तुरंत बाद पूनम की बिहार दारोगा में शानदार सफलता से संपूर्ण गुरुकुल संस्थान गौरवान्वित अनुभव कर रहा है। संस्थान के द्वारा दिए जा रहे रिजल्ट से प्रतियोगी विद्यार्थियों में प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी के प्रति निष्ठा और समर्पण की भावना में वृद्धि हो रही है तथा यहां से दिल्ली रांची पटना और बड़े शहरों की और विद्यार्थियों के पलायन को रोकने में गुरुकुल द्वारा सफलता प्राप्त की जा रही है। यही कारण है कि गुरुकुल में हजारीबाग के विभिन्न प्रखंडों के अलावा चतरा गिरिडीह कोडरमा धनबाद बोकारो रामगढ़ सिमडेगा गुमला लोहरदगा रांची देवघर के अलावा छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, बिहार, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश के विद्यार्थी भी प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी करने के लिए आ रहे हैं। संस्थान निरंतर विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं में शानदार रिजल्ट दे रही है तथा प्रतियोगी विद्यार्थियों के बीच में अपनी विशिष्ट पहचान बनाने में सफलता हासिल की है।