छात्रों से बोले योगी, सफलता के लिए अनुशासन का बड़ा महत्व

0 199
IPRD_728x90 (II)

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को यहां अपने सरकारी आवास पर यूपी बोर्ड परीक्षा में लखनऊ के टॉपर विद्यार्थियों से मुलाकात की। उनसे बातचीत भी की। बच्चों से उनका अनुभव जाना और सफल जीवन के कुछ टिप्स भी दिए।

छात्र-छात्राओं और अभिभावकों से बात करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जीवन में सफलता के लिए अनुशासन का बड़ा महत्व है। नियम और संयम आपको किसी भी क्षेत्र मेें सफलता दिलाने के लिए महत्वपूर्ण आधार होता है। सफलतम व्यक्ति छोटी छोटी बातों पर ध्यान देता है। गलतियों का तत्काल परिमार्जन करता है। लापरवाही अथवा अतिआत्मविश्वास असफलता का मुख्य कारक है।

छात्रों को समय प्रबन्धन पर विशेष ध्यान देना चाहिए। दिनचर्या में सोकर उठने से लेकर सोने तक का पूरा टाइम टेबल तय होना चाहिए। सुबह जल्दी उठें और रात्रि में अध्ययन के उपरांत समय से सोएं। यह आपके मन और तन को स्वस्थ और तरोताजा रखेगा।

उन्होंने कहा कि तय पाठ्यक्रम के अलावा आपको देश-दुनिया के समसामयिक स्थिति से अपडेट रहना चहिए। अखबार एक अच्छा माध्यम है। दिनचर्या में एक समय अखबार पढ़ने के जरूर रखें। अखबारों के सम्पादकीय पृष्ठ विचारों से परिपूर्ण होते हैं। अलग अलग विचारों को पढ़कर आप किसी विषय में अपना नजरिया तय कर सकते हैं। यह आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं में आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

प्रधानमंत्री द्वारा अभिनव प्रयास करते हुए प्रतिवर्ष ‘परीक्षा पर चर्चा’ की जाती है। विद्यार्थियों, अभिभावकों को यह चर्चा जरूर सुननी चहिए। प्रधानमंत्री द्वारा लिखित ‘एक्जाम वॉरियर’ पुस्तक आपको दी जाएगी, इसे पढ़ें। यह आपको परीक्षा की चुनौती का सामना करने में सहायक होगा।

विद्यालय और घर, दोनों जगह का माहौल विद्यार्थियों के व्यक्तित्व पर असर डालता है। इसलिए शिक्षक हों या अभिभावक, सकारात्मक माहौल बनाए रखने का प्रयास करें। महत्वपूर्ण यह भी है कि आप घर पर स्वाध्याय जरूर करें।

शिक्षक के पढ़ाने की शैली विषय की ग्राह्यता पर प्रभाव डालती है। शिक्षण संस्थाओं को चाहिए कि रोचक ढंग से पढ़ाएं। अध्ययन में अपेक्षाकृत कमजोर बच्चों के लिए विशेष कक्षाएं चलाई जानी चाहिए। हर क्षेत्र में कॅरियर की बेहतरीन संभावना है। बस आपको अपनी प्रतिभा, क्षमता और रुचि को जानकर लक्ष्य तय करने की जरूरत हैं। मेहनत कीजिये, इसका दूसरा कोई विकल्प नहीं है।

ऐसा अक्सर देखने में आता है कि परीक्षा पर फोकस करते हुए विद्यालय नोट्स बनाकर देने में अधिक विश्वास करते हैं। इससे बचा जाना चहिए। विषय के विस्तार में जाएं, पूरी जानकारी दें। परीक्षा पैटर्न की जानकारी अभिभावकों और विद्यार्थियों को दी जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द ही राज्य सरकार समारोह आयोजित कर बोर्ड के होनहार विद्यार्थियों का सार्वजनिक सम्मान करेगी।

IPRD_728x90 (I)