डायन बिसाही के संदेह में दंपती की टांगी से काटकर हत्या

0 400

गुमला। चैनपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत भगत बुकमा गांव में शुक्रवार देर रात डायन बिसाही के संदेह में लूदरा चीक बड़ाईक (65) और उसकी पत्नी फूलमइत देवी ( 62) की कुल्हाड़ी से काट कर हत्या कर दी गई है। इस दोहरे हत्याकांड को अंजाम देने के बाद देवरानी सुमित्रा देवी ने रात में ही कुल्हाड़ी लेकर चैनपुर थाना पहुंच पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

इधर ग्रामीणों का कहना है कि इतनी बड़ी घटना को एक औरत अंजाम नहीं दे सकती है। इस दोहरे हत्याकांड में और लोगों की संलिप्तता है। सुमित्रा देवी अपने बेटे को बचाना चाहती है। इसलिए उसने थाना जाकर आत्म समर्पण कर दिया।

जानकारी के अनुसार आरोपित सुमित्रा देवी की बेटी बीमार चल रही थी। सुमित्रा को शक था कि लूदरा चीक और उसकी पत्नी फूलमइत देवी ने उसकी बेटी के साथ जादू-टोना किया है। वह अपने अंध विश्वास में दोनों को डायन-बिसाही मानती थी। इस मामले को लेकर सुमित्रा ने पति-पत्नी को धमकाते हुए उसकी बच्ची को स्वस्थ करने को कहा था नहीं तो परिणाम भुगतने की धमकी दी थी। सुमित्रा की धमकी से परिवार भयभीत हो गया। ग्राम प्रधान से शिकायत की। जान की रक्षा की गुहार लगाई। मामले की गंभीरता को देखते हुए ग्राम प्रधान ने शुक्रवार को गांव में बैठक बुलाई। दोनों पक्षों को बैठक में बुलाया।
ग्राम प्रधान ने जब सुमित्रा और उसके बेटे को समझाने का प्रयास किया तो दोनों ग्राम प्रधान से ही उलझ गए। उनके साथ धक्का मुक्की करने लगे। तब ग्राम प्रधान ने कह दिया कि यह मामला उनसे नहीं सुलझेगा, पुलिस ही इसे सुलझा पाएंगे। इसके बाद परिवार चैनपुर थाना गया। थाना में मौजूद पुलिस अधिकारियों को सारी बात बताई। जान बचाने की गुहार लगाई। पुलिस अधिकारी ने परिवार को मोबाइल नंबर दिया। कोई घटना होने पर सूचित करने को कहा। इसके बाद पति-पत्नी अपने घर चले गए। रात में खाना खाकर दोनों सोने गए। मौका पाकर आरोपी दोनों के कमरे में प्रवेश कर गए और बारी बारी से पति पत्नी की कुल्हाड़ी से काट कर हत्या कर दी गई।

चैनपुर पुलिस शनिवार की सुबह घटनास्थल पहुंच दोनों शवों को उठा कर थाना ले आई है। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गयी है।