रांची दंगा : पांचवें दिन मेन रोड की अधिकतर दुकानें बंद, भड़काऊ पोस्ट का आरोपित गिरफ्तार

0 294
IPRD_728x90 (II)

रांची। झारखंड की राजधानी रांची के मेन रोड में दस जून को हुई हिंसक घटना के बाद पांचवें दिन मंगलवार को धीरे-धीरे ही सही लेकिन जनजीवन सामान्य होने लगा है। हालांकि, मेन रोड में अल्बर्ट एक्का चौक से लेकर चर्च कॉम्प्लेक्स तक की सभी दुकानें बंद रहीं। मेन रोड पर निकलने वाली हरेक गलियों में बैरिकेडिंग लगा दी गई है और वहां पर पुलिस के जवान तैनात हैं। हर आने जाने वाले लोगों पर पुलिस नजर रख रही है। स्थिति सामान्य है और मामला नियंत्रण में है।

हिंसा के बाद राजधानी में कुछ असामाजिक तत्व रांची में अमन-चैन बिगाड़ने की कोशिश में हैं। रांची के हिंदपीढ़ी इलाके में सोमवार देर रात धार्मिक नारेबाजी की गई। घरों की लाइट बुझा कर नारेबाजी की जा रही थी। नारेबाजी की वजह से दूसरे समुदाय के लोग दहशत में हैं।

पुलिस ने 47 उपद्रवियों को उठाया

रांची पुलिस उपद्रव करने वालों की तलाश में ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। पुलिस ने अब तक जहां 12 लोगों को गिरफ्तार किया है, वहीं 35 अन्य को अलग-अलग जगहों से उठाया है। हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तार लोगों में से सात का अभी रिम्स में इलाज चल रहा है। पुलिस ने पांच आरोपितों को होटवार स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार भेज दिया है। इससे पहले आरोपितों की कोरोना जांच करायी गयी। कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें होटवार जेल भेज दिया है।

पांच थाना क्षेत्रों में रहने वाले 155 लोगों पर 107 के तहत निरोधात्मक कार्रवाई की गई है। पुलिस अब सीसीटीवी फुटेज, कॉल डंप और ड्रोन कैमरा के जरिए अन्य उपद्रवियों की पहचान करने में जुट गई है। विशेष जांच दल 42 स्थानों पर छापेमारी कर चुकी है। डोरंडा, लोअर बाजार, डेली मार्केट और हिंदपीढ़ी थाने में 36 नामजद के अलावा 11 हजार अज्ञात पर प्राथमिकी दर्ज की गई है।

भड़काऊ पोस्ट करने वाला डोरंडा का नवाब चिश्ती गिरफ्तार

डोरंडा थाने की पुलिस ने सामाजिक कार्यकर्ता नवाज चिश्ती को गिरफ्तार कर लिया है। नवाज चिश्ती सोशल मीडिया पर दंगा भड़काने और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए पोस्ट करता था। पुलिस विशेष शाखा से मिले इनपुट पर आरोपित को पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया गया। उसके खिलाफ डोरंडा थाना पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज किया गया है।

छानबीन में पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज में देखा कि उपद्रवी तत्व जब डोरंडा क्षेत्र से मेन रोड की ओर जा रहे थे तो डोरंडा राजेंद्र चौक पर नवाब चिश्ती को भी देखा गया था। नवाज चिश्ती दंगा और हिंसा भड़काने के आरोप में पूर्व में भी वह जेल जा चुका है। आरोपित को डोरंडा थाना और हिंदपीढ़ी थाना की पुलिस ने दंगा भड़काने के आरोप में जेल भेजा था। आरोपित ने पुलिस के समक्ष स्वीकार किया है कि सोशल मीडिया पर वह धार्मिक उन्माद पैदा करने के लिए उत्तेजक मैसेज भेजता है।

जल्द होगा पूरे मामले का खुलासा : सिटी एसपी

इस संंबंध में मंगलवार को सिटी एसपी अंशुमन कुमार ने कहा कि जल्द ही पूरे मामले का खुलासा कर दिया जायेगा। इस घटना के पीछे कौन है और किसके कहने पर या घटना हुई है। इस मामले की जांच सही रास्ते पर जा रही है। हिंसा में शामिल उपद्रवियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। इस दौरान रांची पुलिस की अलग-अलग टीम सोमवार की रात को लोअर बाजार, हिंदपीढ़ी, डेली मार्केट और कोतवाली थाना क्षेत्र में एक साथ कई घरों में छापेमारी की है। पुलिस ने उपद्रव की घटना में शामिल 50 से अधिक संदिग्धों को उठाया है। इन सभी से पूछताछ की जा रही है।

दो सदस्यीय टीम ने जांच शुरू की

हिंसा की घटना की जांच के लिए बनी दो सदस्यीय टीम ने जांच शुरू कर दी है। सोमवार को टीम में शामिल आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव अमिताभ कौशल और एडीजी अभियान संजय आनंद लाटकर मेन रोड स्थित हनुमान मंदिर के समीप जांच की। इस दौरान उन्होंने कई पुलिस अधिकारियों से भी बात की। टीम हिंसा के हर पहलू की बारीकी से जांच कर रही है।

राज्यपाल भी मामले में गंभीर

राज्यपाल रमेश बैस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सोमवार को राज्य के डीजीपी, एडीजी (अभियान), रांची डीसी तथा एसएसपी को राज भवन में तलब किया था। अबतक मामले में क्या प्रगति हुई और जांच कहां तक पहुंची इसकी जानकारी ली।

IPRD_728x90 (I)