राज्य सरकार आर्थिक दिवालियापन के कगार पर 

वर्ष 2003 में भाजपा कार्यकर्ताओं पर हुआ लाठीचार्ज सरकार को ले डूबा था, वर्ष 2022 में आंदोलनकारी भाजपा कार्यकर्ताओं पर अपराध दर्ज करना भी ले डूबेगा

0 494
IPRD_728x90 (II)

दुर्ग:  प्रदेश सरकार आर्थिक दिवालियापन के कगार पर खड़ी है। प्रदेश की जनता को वस्तुस्थिति से अवगत कराने के लिए सरकार को श्वेत पत्र जारी करना चाहिए। उपरोक्त बातें नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल के द्वारा सोमवार को दुर्ग में पत्रकारों से चर्चा के दौरान कही।

भाजपा की रणनीति स्पष्ट है 24 तारीख को देखा होगा। पूरे प्रदेश के भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने भूपेश सरकार के खिलाफ में कांग्रेस सरकार के खिलाफ में हुंकार भरी थी। 24 तारीख को इस प्रदेश के तरुणाई ने अंगड़ाई ली। भूपेश सरकार के कुशासन के खिलाफ कांग्रेसी सरकार के जनविरोधी कार्यों के खिलाफ कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव के पहले अपने जन घोषणा पत्र में प्रदेश के 10 लाख बेरोजगार नौजवानों को रोजगार देना का वादा किया था। रोजगार नहीं देने पर ढाई हजार रुपये बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा। मुख्यमंत्री से जानना चाहते हैं कि पूरे छत्तीसगढ़ प्रदेश के किन किन जिलों में कहां-कहां कितने लोगों को रोजगार दिया है। कितने लोगों को बेरोजगारी भत्ता दिया जा रहा है।

भूपेश सरकार की दमनकारी नीति है

आंदोलन के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध होने के सवाल पर चंदेल ने कहा कि यह भूपेश सरकार की दमनकारी नीति है। छत्तीसगढ़ में कोई आपातकाल नहीं लगा है। सभी को आंदोलन करने की आजादी है। लोकतंत्र है, प्रजातंत्र है, प्रजातंत्र में सभी को आंदोलन करने की स्वतंत्रता है। प्रजातंत्र को जो भी कुचलने का प्रयास करता है, 2003 में भी हुआ था भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ नगर घड़ी चौक में युवा मोर्चा के आंदोलन में लाठीचार्ज हुआ था। उस समय भी तरुणाई ने अंगड़ाई ली थी और वह लावा तत्कालीन कांग्रेस सरकार को ले डूबा था। घोषणापत्र उठाकर देख लीजिए 36 वादे किए थे। उसमें बेरोजगारी भत्ता देने का वादा शामिल है।

शराबबंदी करने के लिए गंगाजल उठाकर कसम खाई

पूरे छत्तीसगढ़ में शराबबंदी करने के लिए गंगाजल उठाकर कसम खाई थी। भूपेश सरकार ने कांग्रेस सरकार ने गंगाजल का अपमान किया है। गंगाजल का अपमान करने वाले को छत्तीसगढ़ की जनता छोड़ेगी नहीं। नक्सलवाद के सवाल पर चंदेल ने कहा कि 15 साल के शासनकाल में नक्सलवाद में कमी आई थी । परंतु आज नक्सलवादी खुलेआम कह रहे हैं कि छत्तीसगढ़ में वर्तमान सरकार है वह हमारी सरकार उनकी इतनी हिमाकत है कि वह सरकार को हमारी सरकार कह रहे हैं। इस बात से ही अंदाजा लगा सकते हैं कि नक्सलवाद में इजाफा हुआ है। बढ़ोतरी हुई है जितने भी मुठभेड़ हो रहे हैं वह फर्जी है।

प्रदेश सरकार के मंत्री टीएस सिंहदेव द्वारा दिए गए बयान पर चंदेल ने कहा कि आश्चर्यजनक बात है कि सिंहदेव चुनाव घोषणा पत्र के प्रभारी थे और अपनी जिम्मेदारी से वह बच नहीं सकते। उन्होंने कहा था कर्मचारियों व अधिकारियों को हम केंद्र के समान महंगाई भत्ता देंगे। उन्होंने कहा कि हम केंद्र के समान भाड़ा देंगे। अब अपने वादे को पूरा करें। प्रदेश सरकार आर्थिक दिवालियापन के कगार पर खड़ी हुई है।

IPRD_728x90 (I)