रांची। झारखंड आपदा प्रबंधन प्राधिकार की ओर से स्कूल-काॅलेज खोलने की अनुमति दिए जाने के बाद अब कक्षाएं शुरू करने की तैयारियां तेज हो गई हैं। 9वीं से 12वीं कक्षा के स्कूलों के साथ-साथ काॅलेजों और विश्वविद्यालयों को स्नातक तथा स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं की भी ऑफलाइन कक्षाएं छह अगस्त से शुरू हो जाएंगी। इसके साथ ही आइटीआइ, पाॅलीटेक्निक काॅलेज तथा कौशल विकास केंद्र भी खोलने की घोषणा की गई है।

यह है गाइडलाइन, इसे ध्यान से समझे वरना मुसीबत में फंस जाएंगे आप 

  • काॅलेजों और अन्य संस्थानों में कक्षाएं लेनेवाले शिक्षकों के लिए दोनों डोज का टीकाकरण अनिवार्य होगा। दोनों डोज लेनेवाले शिक्षक ही कक्षाएं ले सकेंगे।
  • छात्र-छात्राओं के लिए कम से कम एक डोज का टीका लेना अनिवार्य होगा।
  • जिला प्रशासन समय-समय पर काॅलेजों में शिक्षकों, छात्र-छात्राओं तथा अन्य स्टाफ की कोरोना जांच करेगा, ताकि संक्रमण की समय पर पहचान की जा सके।
  • झारखंड आपदा प्रबंधन प्राधिकार ने कक्षाओं में शामिल होने के लिए 18 वर्ष या इससे अधिक आयु के छात्र-छात्राओं के लिए कम से कम पहली डोज का टीका अनिवार्य किया है।
  • हालांकि इस दायरे में 12वीं कक्षा से ऊपर के काॅलेज और व्यावसायिक संस्थानों में पढ़ने वाले छात्र ही आएंगे। इसलिए स्कूली छात्रों पर यह नियम लागू नहीं होगा।